Tag Archives: movies

Film Screening this Sunday (September 21st 2014)

16 Sep

Join us for another film screening this Sunday (22nd September) at 4 pm.

Venue will be sent to those who confirm on Facebook ‘Qashti Lbt’ or email us at qashtilbt@gmail.com.

We will have some food and non-alcoholic drinks, but feel free to bring more for yourself or to share!

Advertisements

फिल्म चर्चा

29 Apr

पिछले  बार के मटरगश्ती शुरू हुयी इस इंतज़ार में की लाइट कब आये और हम फिल्म देख पाये. और वही हुआ . लाइट आई और हम सब अपनी पहली फिल्म देखने के लिए बैठ गये. पॉपकॉर्न से भरे  बर्तन यहाँ से वहा जा रहे थे . पर सब की नजरे परदे पर थी.

Chini Walks हमारी पहली फिल्म थी हु केन स्पीक ऑफ़ मैन, जो एक डाक्यूमेंट्री फिल्म है  यह फिल्म अम्बरीन अल्क़दर की है I फिल्म के तीन किरदार दिल्ली के जामिया नगर से थे I  तीनो ने ही अपने जिंदगी में कई सारे जेंडर से जुड़े नियम तोड़े थे और यह फिल्म उनके रोजमर्रा के इन्ही पहलू पर थी. तीनो के जिंदगी के कई सारे ऐसे पल थे जहाँ  उनको काफी संघर्ष करना पड़ता था, जैसे स्कूल के यूनिफार्म में क्या पहेनना है, दोस्त कौन होंगे और सबसे महत्वपूर्ण संघर्ष था, उनके पेह्चान. फिल्म के दो किरदार ने तो साफ़ कह दिया था की वे खुद को लड़के  की तरह देखते थे. 

 
इसके  बाद दूसरी फिल्म थी पुच्च्नी फॉर बिगिनर्स” नामक एक अंग्रेजी फिल्म थी और एक लड़की के जिंदगी के बारे में थी  
 
फिल्म ख़तम होने के बाद कुछ  समय की चर्चा हुई. ख़ास कर पहली फिल्म के बारे मे एक दोस्त का कहना था की उन्हें  अपने स्कूल की  यूनिफार्म पहेने में  दिक्कत आई. एक दोस्त ने कहा की शिक्षा और जेंडर से जुड़े नियमो से इन  लोगो के जिंदगी के साथ जुडाव को देखना बहुत जरुरी है क्योंकि एक इंसान स्कूल में काफी समय बिताता  है, और स्कूल में जब भेद  भाव होता है,तो कई सारे ट्रांसजेंडर बच्चे स्कूल छोड़ देते है. किसी ने कहा की उनके लिए शिक्षा जरुरी थी  इसलिए वो स्कूल नहीं छोड़ना चाहते थे. परन्तु किसी का कहना था की किसी किसी के लिए जेंडर पहचान बहुत जरुरी होती  है. और इसलिए स्कूल में अगर स्कर्ट पहन कर जाना पड़ता था, और उसपर सभी लोग ये कह के छेडते थे की लड़का हैं या लड़की.
हम  जेंडर, जेंडर ट्रांसग्रेस्सन और शिक्षा से जुड़े मुद्दों पर और चर्चा करना चाहते हैं, आपको क्या लगता हैं?

Qashti ki Matargashti – Movie Evening!

9 Apr

Lights, camera, popcorn! Share the magic of the silver screen with old friends and new at Qashti’s movie night and matargashti this Saturday, April 13, from 4 pm to 7 pm. Here is the line-up!

still from Who Can Speak of Men, dir: Ambarien Alqadar

still from Who Can Speak of Men, dir: Ambarien Alqadar

Who Can Speak of Men?
Directors: Ambarien Alquadar, Ghazala Yasmin, Nihal Ahmed
Languages: Hindi, Urdu
Length: 32 minutes
Year: 2001
A documentary about middle-class Muslim women in India who refuse to conform to gender norms. They describe in poignant detail the everyday struggles they face in order to be true to themselves. The film is striking in the inclusion of a disarming seven-year-old, Chini,who stubbornly insists that ‘she’ is a ‘he’.

poster for Puccinni for Beginners, 2006

poster for Puccinni for Beginners, 2006

Puccinni for Beginners
Director: Maria Maggenti
Language: English
Length: 82 mins
Year: 2007
Allegra, an opera-loving writer in New York, hates commitment, so her girlfriend, Samantha, leaves her. Allegra misses Sam, and resents the accusation that she’s afraid to say “I love you,” but she’s soon involved with two people – Grace and Philip. What she doesn’t know is that they have just broken up with each other! Allegra juggles the two affairs, telling neither about the other; each likes her more and more as her old fears start making her itchy. Things come to a head at an engagement party where Allegra is filling in as a catering assistant.

Followed by discussion, chai, snacks, making friends.

The venue and directions will be sent in a private message to all those who confirm on our Facebook page. Feel free to bring friends, but keep in mind this space is meant only for lesbian, bisexual women and trans people assigned female at birth.

See you all there!