कमिंग आउट: कितना ज़रूरी? कितना महत्वपूर्ण?

5 Apr

इस बार की कश्ती की मटरगश्ती में हम सभी दोस्त मिलें और शुरुवात हुयी चाय के प्यालो के साथ | दोस्तों के साथ खुले आसमान के नीचे चाय, समोसों और चिप्स का कुछ अलग ही मज़ा है | चाय की चुस्कियों के साथ शुरुवात हुई हमारे इस बार के मटरगश्ती विषय के ऊपर – जो की था कमिंग आउट (coming out) | अपनी कहानियाँ शुरू करने से पहले हमें लगा की उन्हे बांठने के साथ-साथ हमें कमिंग आउट के मायने और उससे जुड़े कईं पहलू पर सोच विचार करना चाहिए |

चर्चा के दौरान एक सहेली ने बताया की कई बार कॉर्पोरेट दफ्तरों में  लड़कियों के पहनावे और  चाल ढाल के तरीके से पता चल जाता है वो लोग “अलग” है | उनको अपनी मम्मी के सामने कामे आउट करना जरुरी था क्योंकि उनकी मम्मी उनके लिया बहुत मायने रखती है और वो अपनी जिंदगी की कोई भी बात अपने मम्मी से छुपा नहीं सकती | उनका कहना था की उन्होंने  अपने दोस्तों के सामने पहले कॉम आउट किया जिससे न की उनको समर्थन मिला बल्कि उनके मम्मी को भी उन्हें समझने में आसानी रहे.

उसी बात में आगे जोड़ते हुये एक अन्य दोस्त ने कहा की उनके लिए माता-पिता के सामने कम आउट करना ज्यादा आसान था क्योंकि वह उन्हें समझते है और उनका साथ भी देते है | लेकिन कभी-कभी उनसे शादी के बारे में पूँछ लेते है यह सोच कर के की कहीं उनका विचार तो नहीं बदल गया | शायद यह सोचकर की उन्हें आगे चलकर अकेलेपन की कोई दिक्कत न हो | उन्होंने बताया की वो एक विद्यार्थी है और दुसरे कई समूह से जुड़े हुये है |उनकी क्लास में उनके साथ देने वाले भी है और कुछ उनका मजाक उड़ाने वाले भी |  लेकिन उस से उनको ज्यादा फर्क नहीं पड़ता |

एक और सहेली ने बताया की वह एक पंजाबी परिवार से है और आउट है | लेकिन परिवार वालों का ज्यादा समर्थन नहीं है | कई बार गुस्से में आकर कोई उन्हें ताने भी मार देता है, पर वह अपने कुछ करीबी दोस्तों से दिल की बात कर सकती है | कमिंग आउट की प्रक्रिया और परिणाम हर किसी के लिए अलग होते है | जहाँ कई दोस्त आपको स्वीकार करते है वहां कुछ दोस्त आपका साथ भी छोड़ जाते है  |

एक अन्य दोस्त का कहना की वह एक ऐसे परिवार से है, जहा नियम कानून और परिवार की नाक ऊँची रखना ही सबसे बड़ा धर्म है | ऐसा परिवार जहाँ लड़कियों की 21 साल की उम्र में शादी कर दी जाती है | इस सन्दर्भ में हमारे दोस्त घरवालों को अपनी समलैंगिकता के बारे में कोई एहसास भी नहीं दिलाना चाहते | लेकिन अपनी पहचान व्यक्त करने की प्रक्रिया में हमारे दोस्त ने बचपन से हमेशा लड़कों वाले कपडे ही पहने, जिसके वजह से कई बार घर वालों से काफी कुछ सुनना भी पड़ा |  अब वह एक कॉर्पोरेट दफ्तर में काम करते है जहाँ उन्होंने खुद से कुछ नहीं कहाँ लेकिन उनके पहनावे और तौर तरीको से लोगों के मन में काफी सवाल उठते रहते है |

जहाँ कई दोस्तों ने अपनाया वहां कुछ ने भेद-भाव किया । एक सहेली ने बताया की जब उहोने अपने दोस्तों से अपनी बाईसेक्शुअल और किंकी होने की बात व्यक्त करीं तो उन्हें भेदभाव का सामना करना पड़ा |

इसके बाद तो हम ज्यादा बात नहीं कर पाए क्योंकि लोगो को जाना था, लेकिन हमारे सामने कई सवाल उभर कर आये | सबसे पहले की कमिंग आउट होता क्या है? क्या कमिंग आउट हर एल.जी.बी.टी.आई.क्यू व्यक्ति के लिए अनिवार्य और महत्वपूर्ण है? अगर हाँ – तो किसके लिए – अपने माता-पिता? दोस्त? रिश्तेदार? आप जहाँ काम करते है? या फिर अपनी खुद की समझ, पहचान और स्वीकृति के लिए | कमिंग आउट में आपकी ज़िन्दगी और सामाज का सन्दर्भ कितना मायने रखता है?

आप कमिंग आउट के बारें क्या सोचते है?

Advertisements

One Response to “कमिंग आउट: कितना ज़रूरी? कितना महत्वपूर्ण?”

Trackbacks/Pingbacks

  1. कमिंग आउट: कितना ज़रूरी? कितना महत्वपूर्ण? | purposefulfornow - April 5, 2013

    […] कमिंग आउट: कितना ज़रूरी? कितना महत्वपू…. […]

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: